रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान आरक्षण पूजा के साथ शुरू आम लोगो के लिए 23 जनवरी को ख्गुलेगा राम मंदिर

अयोध्या में श्री राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान रबिवर को अक्षत पूजा के साथ सुरु हो गया श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने कहा की मंदिर में राम दरबार में हल्दी और देसी घी के साथ लगभग 100 क्विंटल साबुत चावल की पूजा के साथ ‘अक्षत पूजा’ की जा रही है. वही मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नुपेंद्र मिश्रा ने आजतक को बताया की राम मंदिर 23 जनवरी को नागरिको के लिए खोला जाएगा.

यह ‘पूजित अक्षत’ विश्व हिन्दू परिषद (BHP) के 90 पद धरको के बिच वितरित किया गेगा, जो की देशभर के 45 संगठनात्मक प्रांतो से यह आए हुए है. ट्रस्ट ने कहा की विश्व हिदू परिषद के ये सदस्य 22 जनवरी से पहले पुरे देश में चावल वितरित करेंगे.

नुपेंद्र मिश्रा ने आजतक को बताया कि 22 जनवरी को पीएम मोदी राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्टा करेंगे. इसी दिन राम मंदिर निर्माण का फेज वन का कम पूरा हो गेगा. उन्होंने बताया की 23 जनवरी से आम जनता और श्रध्दालुओ के दर्शन के लिए मंदिर खोल दिया जाएगा.एक दिनमे 70 से 75 हजार श्रध्दालु दर्शन कर सकेंगे. उन्होंने बताया की गर्भगृह में 51 इंच की रामलला की मूर्ति लगेगी.

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की ओंर से कहा गया है की श्रीराम जन्मभूमि मंदिर प्राण प्रतिष्टा दिवस पर यानि 22 जनवरी 2024 को देशभर के 5 लाख से ज्यदा मंदिरों में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की ओंर से कहा गया है की श्रीराम जन्मभूमि मंदिर प्राण प्रतिष्टा दिवस पर यानि 22 जनवरी 2024 को देशभर के ५लख से ज्यदा मंदिरों में क्र्येक्रम का आयोजन किया जाएगा. इसके लिए लिए ‘पूजित अक्षत’ 5 नवम्बर को देशभर के 45 प्रन्तो से अयोध्या धाम पधारे कर्येक्र्ताओ को समर्पित किये जाएँगे. एस पूजित अक्ष को वै सभी क्र्येकर्ता अपने प्रन्तो में ले जाएंगे. इस अक्ष के माध्यम से देश के सभी शहर और ग्राम में जनमानस

Leave a Comment