चंद्र ग्रहण 2023 में लगेगा 28/10 /2023 को 1 बजकर 15 मिनट पर लगेगा ? जिसका जनकारी निचे दिया

आज साल 2023 का अंतिम चंद्र ग्रहण है. शरद पूर्णिमा को लग रहा यह चंद्र ग्रहण कुछ राशि वालों के सोए नसीब जगाने वाला है. उन्‍हें करियर में तरक्की होगी, धन, सुख-सौभाग्य मिलेगा.

शरद पूर्णिमा के मौके पर साल का आखिरी चंद्र ग्रहण आज यानी शनिवार 28 अक्टूबर की रात साढ़े 11 बजे लगने जा रहा है. आज लगने जा रहा यह ग्रहण पूर्ण नहीं बल्कि आंशिक होगा, जिसके खंडग्रास चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है. भारत समेत विश्व के कई देशों में यह चंद्र ग्रहण नजर आएगा. चंद्र ग्रहण का सूतक काल शाम 4 बजकर 05 मिनट से शुरू हो गया है. चंद्र ग्रहण के दौरान कई चीजों को करने की मनाही बताई गई है ?

दरअसल चंद्र ग्रहण को अशुभ काल माना जाता है. इसलिए ग्रहण से पहले लगने वाले सूतक और ग्रहण के दौरान कई चीजों पर पाबंदी होती है. ग्रहण का काल ऐसा होता है कि मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं. ग्रहण के दौरान पूजा-पाठ भी मना की जाती है. हालांकि, अगर कोई पाठ-पूजा करना चाहता है तो ग्रहण के दौरान किसी भी भगवान की मूर्ति को न छूने की सलाह दी जाती है. ग्रहण काल में देवी-देवताओं के मंत्रों का जाप जरूर कर सकते हैं.

05 बजकर 55 मिनट: साल 2023 का यह आखिरी चंद्र ग्रहण भारत समेत अन्य एशियाई देशों, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका में भी दिखाई देगा. इस चंद्र ग्रहण के बाद अगला चंद्र ग्रहण साल 2024में 24 मार्च को लगेगा.

05 बजकर 30 मिनट: वास्तु के अनुसार, जब चंद्र ग्रहण खत्म हो तो घर में बने मंदिर वाले स्थान की अच्छी तरह से सफाई कर लें. इसके साथ ही गंगाजल का छिड़काव कर दें. इसके बाद भगवान को नए वस्त्र धारण करवाकर मंदिर की सजावट कर दें. भगवान के पुराने वस्त्रों को नदी में नियमानुसार प्रवाहित कर दें. ऐसा करने मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं.

05 बजकर 05 मिनट: धार्मिक मान्यताओं के अुसार, अगर आप आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं तो चंद्र ग्रहण के दौरान मां लक्ष्मी के एक मंत्र का जाप कर सकते हैं. पैसों की तंगी खत्म करने के लिए ग्रहण खत्म होने तक ‘ॐ पुते सदा देवी महालक्ष्मी नमोस्तुते’ मंत्र का जाप करते रहें.

04 बजकर 50 मिनट: सूतक काल में आप भगवान के किसी मंत्र का जाप जरूर करते रहिए. मंदिर बेशक बंद हों, लेकिन आप मन से भगवान को याद करते रहिए, जिससे यह अशुभ काल सुरक्षित तरीके से समाप्त हो जाए.

04 बजकर 40 मिनट: चंद्र ग्रहण से पहले सूतक काल में ही खाने की चीजों में तुलसी का पत्ता डाल देना चाहिए. हालांकि, ध्यान रहे कि पत्तों को सूतक काल से पहले ही तोड़ लें. ऐसी मान्यता है कि तुलसी का पत्ता डालने से खाने की चीजें दूषित नहीं होती हैं

04 बजकर 25 मिनट: ग्रहण अशुभ काल होता है, इसलिए सूतक शुरू होने के बाद से ही लोगों को अपने घर जाने की सलाह दी जाती है. अगर आप ग्रहण के समय किसी वजह से घर से बाहर हैं तो भूलकर भी चंद्रमा की तरफ नहीं देखना चाहिए.

04 बजकर 20 मिनट: आज लगने जा रहा ग्रहण आंशिक यानी खंडग्रास चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है. दरअसल जब पृथ्वी की छाया पूरी तरह नहीं बल्कि कुछ हिस्सों पर पड़ती है तो उसे आंशिक चंद्र ग्रहण कहा जाता है.

04 बजकर 15 मिनट: सूतक काल में गर्भवती महिलाओं को पेट पर अगर गेरू लगा हुआ होता है तो वह ग्रहण की नकारात्मक शक्तियों से बचाता है. सूतक काल में खाने से भी बचना चाहिए. हालांकि, सूतक काल में ना खाने का नियम गर्भवती महिलाओं और बुजुर्गों के लिए नहीं है.

04 बजकर 10 मिनट: चंद्र ग्रहण का सूतक काल 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है. जब ग्रहण का सूतक काल शुरू हो जाए तो खासतौर पर गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए. सूतक काल में गर्भवती महिलाओं को खाना नहीं बनाना चाहिए. इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं को चाकू, कैंची, सुई, आदि किसी भी नुकीली चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

04 बजकर 05 मिनट: चंद्र ग्रहण का सूतक काल का समय शुरू हो गया है. सूतक काल में कई चीजों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है. सूतक काल में कई चीजें ऐसी होती हैं, जिनको करने की मनाही की गई है

साल का दूसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण बेहद खास है क्‍योंकि यह भारत में नजर आएगा. साथ ही आज 28 अक्‍टूबर को चंद्र ग्रहण के दिन कई अद्भुत संयोग भी बन रहे हैं. दशकों बाद शरद पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण लग रहा है, इसके अलावा मेष राशि में चंद्र और गुरु मिलकर गजकेसरी राजयोग बना रहे हैं. इस कारण इस चंद्र ग्रहण का सभी 12 राशियों पर बड़ा प्रभाव पड़ेगा, वहीं कुछ राशि वालों को यह चंद्र ग्रहण जीवन में सकारात्मक बदलाव देगा. इन लोगों को करियर में तरक्की मिलेगी, धन लाभ होगा, जीवन में सुख और सौभाग्य में बढ़ेगा.

1 thought on “चंद्र ग्रहण 2023 में लगेगा 28/10 /2023 को 1 बजकर 15 मिनट पर लगेगा ? जिसका जनकारी निचे दिया”

Leave a Comment